दिल्ली आज बनेगी राजनीति का अखाड़ा ! पहलवानों के पेश किसानों का मार्च आज तो संसद भवन का उद्घाटन भी! विपक्षी दल और खाप पंचायतें….. - Express News Bharat
October 1, 2023

Express News Bharat

Express News Bharat 24×7 National Hindi News Channel.

दिल्ली आज बनेगी राजनीति का अखाड़ा ! पहलवानों के पेश किसानों का मार्च आज तो संसद भवन का उद्घाटन भी! विपक्षी दल और खाप पंचायतें…..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई (रविवार) को नए संसद भवन का उद्घाटन करने वाले हैं। वहीं, पहलवानों ने इसी दिन संसद भवन के पास महिला खाप पंचायत आयोजन करने का फैसला किया है। पहलवान यौन शोषण मामले में भाजपा सांसद और भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

शनिवार देर रात पहलवानों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सरकार हम पर कल होने वाली महापंचायत को न करने का दबाव बना रही है। हम पीछे हटने वाले नहीं हैं आप सब आइए क्योंकि जो स्तिथि है हमें नहीं लगता की यह बृजभूषण को गिरफ्तार करेंगे।

प्रदर्शनकारी पहलवान विनेश फोगाट ने कहा कि महिला सम्मान महापंचायत रविवार को हर कीमत पर होगी। पुलिस ने पूरी दिल्ली को बंद कर दिया है, लेकिन हम सभी से शांतिपूर्वक ‘महिला सम्मान महापंचायत’ में शामिल होने का आग्रह करते हैं।

दिल्ली बॉर्डर और संसद भवन के आसपास सुरक्षा मजबूत
नए संसद भवन के उद्धाटन के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने पूरे नई दिल्ली जिले में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। स्पेशल ब्रांच ने रिपोर्ट दी है कि जंतर-मंतर पर धरना दे रहे पहलवान नए संसद भवन के उद्धाटन के मौके पर वहां पहुंचकर महिला खाप पंचायत करने की योजना बना रहे हैं। इसके मद्देनजर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।

दिल्ली की सीमाओं पर बैरिकेडिंग लगा दी गई हैं, ताकि पहलवानों के समर्थकों को वहीं रोका जा सके। संसद भवन के आसपास की सड़कों समेत पूरे नई दिल्ली जिले में दिल्ली पुलिस के अलावा भारी संख्या में पैरा मिलिट्री की तैनाती की गई है। एक भी महिला को जंतर-मंतर से संसद भवन की तरफ कूच करने नहीं दिया जाएगा।

जंतर मंतर पर 100 से कम लोग शामिल
पुलिस अधिकारी का कहना है कि वर्तमान में जंतर-मंतर पर पहलवानों के धरना स्थल पर 50-75 लोग शामिल हैं। उन्हें वहां से हटाया नहीं जाएगा। अगर कोई नए संसद भवन की तरफ जाने की कोशिश करेगा तब उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जंतर-मंतर पर महिला पुलिस की संख्या बढ़ा दी गई है।

कहा जा रहा है कि पहलवानों की नजर 28 मई पर ही टिकी हुई है। अगर वे महिला खाप पंचायत करने की योजना में विफल हो जाएंगे तब जंतर-मंतर पर धरना देने की योजना को वे खत्म भी कर सकते हैं

Share
Now