September 26, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB

शर्मनाक: छोटी जाति मे होने सजा! मां के अंतिम संस्कार के लिए नहीं मिले चार कंधे, जाने पूरा मामला……

ओडिशा में एक शख्स को छोटी जाति का होने की ऐसी सजा मिली, जिसे सुनकर हर कोई चौंक गया. दरअसल, बेटे के मां की मौत हो गई थी, इस पर उसने पड़ोसियों से मदद मांगी, लेकिन पड़ोसियों ने मदद देने से इनकार कर दिया. बेटे ने अकेले ही मां के शव को कंधे पर लादा और श्मशान घाट ले गया.

भले ही समाज और सरकार की ओर से धर्म और जाति के भेदभाव को मिटाने की लाख बातें की जाती हो, लेकिन हकीकत तो यह है कि जाति को लेकर होने वाला भेदभाव कभी खत्म नहीं हो पाया है. ओडिशा के कोरापुट जिला से जातिवाद को लेकर भेदभाव का एक बेहद शर्मनाक मामला सामने आया है, जिसने मानवता को शर्मसार कर दिया है. 

दरअसल, ओडिशा के कोरापुट जिले के बैरागी मूत ग्राम निवासी मंगला परजा को छोटी जाति होने की भयावह सजा मिली. मंगला ने अपनी मां की मौत पर अंतिम संस्कार के लिए ग्रामीणों से मदद की गुहार लगाई. ग्रामीणों ने छोटी जाति का ताना देकर अंतिम संस्कार में मदद करने से इनकार कर दिया. 

मंगला लाचार होकर मजबूरन पत्नी के साथ मिलकर अपनी मां कंधा दिया और अंतिम संस्कार किया. छह महीने पहले मंगला परजा ने गांव के पड़ोस में दूसरे जाति के घर में खाना खा लिया, जिसके बाद ग्रामीणों में मंगला परजा और उसके पूरे परिवार को गांव से बाहर कर दिया. परजा को गांव से बाहर रहने के कारण काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा.

मंगला ने आजतक को बताया कि दूसरे जाति के घर में खाना खाने के कारण हमें छोटी जाति बतलाकर गांव से बाहर कर दिया गया था, मेरी मां की मौत के बाद मैंने गांववालों से अंतिम संस्कार में मदद करने लिए गुहार लगाई, लेकिन लोगों ने छोटी जाति कह कर केवल ताना मारा और मदद करने से मुंह मोड़ लिया.

Share
Now