May 18, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB JOIN US

यूपी के इन चार शहरों में कोविड अलर्ट जारी! मास्क लगाना भी हुआ अनिवार्य नहीं लगाने पर जुर्माने …

दिल्ली के बाद यूपी में भी मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया है। हालांकि अभी केवल नोएडा, लखनऊ समेत चार जिलों में ही इसको लागू करने के सीएम योगी ने आदेश दिए हैं। कोरोना केस को देखते हुए यह फैसला लिया गया

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को टीम-9 के साथ उच्‍चस्‍तरीय बैठक में अधिकारियों को कोविड गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। उन्‍होंने एनसीआर के जिलों व लखनऊ में लिए सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क की अनिवार्यता को प्रभावी बनाने को कहा है। गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, आगरा और लखनऊ में अलर्ट जारी करने को कहा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन करने के लिए जागरूक किया जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाए। साथ ही स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल के बारे में बच्चों को जागरूक किया जाए। पीएम के मार्गदर्शन में ट्रैक, टेस्ट, ट्रीट और टीकाकरण की नीति के सफल क्रियान्वयन से प्रदेश में कोविड महामारी पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। चौथी लहर को लेकर सभी टीमें अलर्ट मोड पर जमीनी स्‍तर पर मोर्चा संभालें हुईं हैं।

कोरोना के 269 नये केस मिले, सबसे अधिक नोएडा में

बैठक में बताया गया कि पिछले दो हफ्तों से एनसीआर के जिले नोएडा और गाजियाबाद में केस तेजी से बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में पूरे प्रदेश में 269 नए केस की पुष्टि हुई है। जिसमें गौतमबुद्ध नगर में 117, गाजियाबाद में 55, लखनऊ में 26 और आगरा में 15 नए केसों की पुष्टि हुई। प्रदेश में कोरोना के कुल 1587 एक्टिव मामले हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन जिलों में केस अधिक मिल रहे हैं वहां सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क लगाने को अनिवार्य करें। प्रदेश में कम से कम डेढ़ लाख कोविड टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। पॉजिटिव पाए जा रहे लोगों का सैम्पल लेकर जीनोम सिक्वेंसिंग का काम लगातार किया जाए। मुख्यमंत्री ने गांवों और शहरी क्षेत्रों में तेजी से टेस्टिंग और टीकाकरण करने के निर्देश दिए।

अधिकारियों द्वारा यह भी बताया गया कि यूपी में अब तक 11 करोड़ 14 लाख से अधिक कोविड टेस्ट किए जा चुके हैं जबकि कोविड टीके की 31 करोड़ 49 लाख डोज दी जा चुकी है। 18 से अधिक आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज दी चुकी है, जबकि 88 प्रतिशत से अधिक वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 95.33 प्रतिशत से अधिक किशोरों को पहली खुराक और 66.84 प्रतिशत से किशोरों को दोनों डोज दी जा चुकी हैं। 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों के टीकाकरण को और तेज किए जाने की जरूरत है।

Share
Now