Fri. Feb 26th, 2021

Express News Live

ज़िद !! सच दिखने की

देश में अगर आज हुए चुनाव- तो किस पार्टी को मिलेगी कितनी सीटें- जानिए सर्वे…

  • कोरोना महामारी और किसान आंदोलन के बीच एक ताजा सर्वे में बताया गया है कि देश की जनता का भरोसा अभी भी मोदी सरकार में कायम है।
  • आज चुनाव हुए तो पीएम मोदी की अगुआई में एनडीए को 43 फीसदी शेयर वोट और 321 सीटें मिल सकती है।अकेली बीजेपी 291 सीटें जीत सकती है।
  • किसान आंदोलन के समय 3-13 जनवरी के बीच इंडिया टुडे की ओर से किए गए इस सर्वे में अधिकतर लोग कृषि कानूनों पर सरकार के साथ दिखते हैं तो वैक्सीन को लेकर सरकार के काम कामकाज से भी खुश हैं।

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी को दोबारा सत्ता में आए हुए डेढ़ साल से ज्यादा का वक्त हो गया है. मई 2019 को आए चुनावी नतीजों में बीजेपी के नेतृत्व में एनडीए ने धमाकेदार जीत दर्ज कर केंद्र की सत्ता पर दूसरी बार कब्जा जमाया था. साल 2020 पूरा कोरोना के संकट में गुजरा है. ऐसे में साल 2021 में  ‘देश का मिजाज’ समझने और जानने के लिए ‘आजतक’ ने कार्वी इनसाइट्स लिमिटेड के साथ मिलकर एक सर्वे किया है, जिसमें अगर देश में आज लोकसभा चुनाव होते हैं तो बीजेपी अपने दम पर सरकार बनाती नजर आ रही है जबकि कांग्रेस की स्थिति जस की तस बनी हुई है.

सर्वे के मुताबिक, आज चुनाव हुए तो 43 फीसदी लोग एनडीए के साथ हैं तो 27 फीसदी ने कहा कि वे यूपीए गठबंधन को वोट देते वहीं 30 फीसदी वोट अन्य के खातों में जाते दिख रहे हैं। इसे यदि सीटों में कनवर्ट किया जाए तो 321 सीटें एनडीए को मिल सकती हैं तो यूपीए के खाते में 93 सीटें जाती दिख रही हैं, जबकि 129 सीटें अन्य को मिलती। 

इस सर्वे में 34 फीसदी लोगों ने कृषि कानूनों को किसानों के लिए मददगार बताया है। वहीं, 32 फीसदी लोगों का कहना है कि इससे उद्योगपतियों को फायदा होगा। वहीं, 25 फीसदी लोगों का कहना है कि दोनों को फायदा होगा। इसी मुद्दे पर जब लोगों से सवाल पूछा गया कि किसान आंदोलन कैसे रुकेगा? 55 फीसदी लोगों ने कहा कि कृषि कानूनों में सुधार हो, जबकि केवल 28 फीसदी इस पक्ष में है कि कृषि कानून वापस हों। 10 फीसदी लोगों का माना है कि सरकार कुछ ना करे। किसान आंदोलन पर सरकार के रुख को भी अधिकतर लोग ठीक मानते हैं। 16 फीसदी लोगों ने बहुत अच्छा और 39 फीसदी ने अच्छा बताया है, जबकि 25 फीसदी ने संतोजनक बताया है, केवल 16 फीसदी लोगों ने सरकार के रुख को खराब और बहुत खराब बताया है।

क्या लव जेहाद धर्म परिवर्तन की साजिश है? 54 फीसदी लोगों ने इसका जवाब हां में दिया, जबकि 36 फीसदी लोग इसका जवाब ना में देते हैं। इसी से जुड़ा एक और सवाल लोगों से पूछा गया कि क्या गैर धर्म में शादी जायज है तो 54 फीसदी लोगों ने इसे संस्कृति के खिलाफ बताया तो 41 फीसदी लोगों ने कहा कि यह अपनी-अपनी पसंद है। वेब सीरीज तांडव को लेकर मचे बवाल के बीच लोगों से यह सवाल भी किया गया कि ओटीटी प्लेटफॉर्म को सेंसर किया जाए या नहीं? इसके जवाब में 49 फीसदी लोगों ने हां में जवाब दिया जबकि 26 फीसदी चाहते हैं कि सेंसरशिप लागू ना की जाए।

सर्वे में वैक्सीन और कोरोना से इकॉनमी पर असर को लेकर भी सवाल किए गए और उनका मूड भांपने की कोशिश की गई है। क्या कोरोना वैक्सीन लगवाएंगे? इस सवाल के जवाब में 76 फीसदी लोगों ने कहा है कि उन्हें वैक्सीन पर भरोसा है और टीका लगवाएंगे, जबकि 21 फीसदी लोगों ने नहीं में जवाब दिया। 92 फीसदी लोग चाहते हैं कि वैक्सीन फ्री में मिले जबकि 07 फीसदी लोगों ने नहीं में जवाब दिया। 

कोरोना पर पीएम के काम से संतुष्ट हैं अधिकतर लोग
जब लोगों से पूछा गया कि कोरोना पर पीएम का काम कैसा है तो 23 फीसदी लोगों ने इसे बहुत अच्छा बताया तो 50 फीसदी ने अच्छा बताया। 18 फीसदी औसत मानते हैं जबकि 08 फीसदी लोगों ने सरकार के काम को खराब बताया है। 

19 फीसदी की गईं नौकरियां
कोरोना से अर्थव्यवस्था पर असर को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में 66 फीसदी लोगों ने कहा कि उनकी आमदनी घटी है। 19 फीसदी ने कहा कि उनकी नौकरी छिन गई है, जबकि 12 फीसदी ने कहा कि कोई बदलाव नहीं आया है।

मीडिया समूह की ओर से बताया गया है कि इस सर्वे में कुल 12,232 लोगों ने हिस्सा लिया। 19 राज्यों के 97 लोकसभा क्षेत्रों और 194 विधानसभा क्षेत्रों से लोगों से सावल पूछे गए थे।

Share
Now