July 7, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB Click to Join us!

कथित शिवलिंग मिलने वाली जगह पर कोर्ट ने तुरंत सील लगाने को कहा बनारस प्रशासन ने कोट के आदेश वजू पर भी लगाई पाबंदी….

Gyanvapi Masjid Dispute: वाराणसी में स्‍थ‍ित श्रृंगार गौरी मंद‍िर और ज्ञानवापी मस्‍ज‍िद का मामला पूरे देश में तूल पकड़ चुका है. कोर्ट के आदेश के बाद तमाम विसंगत‍ियों के बाद सोमवार को ज्ञानवापी मस्‍ज‍िद का सर्वे पूरा हो गया. सर्वे की टीम से जुड़े हिंदू और मुस्‍लि‍म पक्षकारों के अपने-अपने दावे हैं. ह‍िंदू पक्षकारों के मुताब‍िक, सर्वे में उम्‍मीद से ज्‍यादा अच्‍छे पर‍िणाम मिले हैं. वहीं, मुस्‍ल‍िम पक्षकार इस तरह के हर दावे को नकारते हुए बैक टू बैक कोर्ट का संरक्षण मांगकर इस पूरी प्रक्र‍िया को रुकवाने की कोश‍िश कर रहे हैं. जाह‍िर है इन समीकरणों के बीच ज्ञानवापी प्रकरण चारों ओर चर्चा के केंद्र में आ चुका है. ऐसे में शुरू से अब तक सर्वे की बड़ी बातों को जानना आप सबके लिए जरूरी है.

वाराणसी कोर्ट में पांच महिलाओं के एक समूह ने ज्ञानवापी मस्जिद की बाहरी दीवारों पर मूर्तियों के सामने रोजाना पूजा करने की अनुमति मांगने के लिए एक याचिका दायर की थी. इसी की सुनवाई में दीवानी अदालत के न्यायाधीश (सीनियर डिवीजन) ने पूरे मस्जिद परिसर की वीडियोग्राफी करके 17 मई तक रिपोर्ट पेश करने के निर्देश भी दिए हैं.

हिंदू पक्ष के मुताबिक, मस्जिद और विश्वनाथ मंदिर के बीच 10 फीट गहरा कुआं है, जिसे ज्ञानवापी कहा गया है. स्कंद पुराण में भी इसका जिक्र मिलता है. ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने स्वयं लिंगाभिषेक के लिए अपने त्रिशूल से ये कुंआ बनाया था.

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे से जुड़े सूत्रों का कहना है क‍ि सर्वे के दौरान वहां मगरमच्छ की एक मूर्ति मिली है. वह इतनी खूबसूरत थी कि काफी देर तक सभी उसे देखते रह गए. साथ ही, सर्वे में मंदिरों के टूटे हुए शिखर के काफी टुकड़े भी मिले हैं.

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के 500 मीटर के दायरे में लोगों की आवाजाही पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई गई थी. पुलिस ने गोदौलिया और मैदागिन इलाके से वाहनों की आवाजाही पर भी प्रतिबंध लगा दिया था.

सूत्रों के मुताबिक, मंदिर के शिखर की जगह मस्जिद का गुंबद रखे जाने के संकेत मिले हैं. तहखानों के अंदर त्रिशूल, स्वास्तिक, प्राचीन शिलाएं, खंडित मूर्तियां, और दिए रखने की जगह मिली है. इसके अलावा दीवारों पर नाग और स्वान की कलाकृति भी मिली है.

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता हरीशंकर जैन के बेटे विष्णुशंकर जैन का दावा है कि ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में सर्वे के दौरान एक शिवलिंग मिला है. इसके बाद वाराणसी सिविल कोर्ट के जज रवि कुमार दिवाकर ने शिवलिंग की जगह को सील करते हुए उसे सुरक्षा के लिहाज से सीआरपीएफ के हवाले कर दिया है. हालांकि, मुस्लिम पक्षकारों ने हिंंदू पक्षकारों के ऐसे सभी दावों को खारिज कर दिया है. दावा किया गया है कि परिसर से 12.8 फीट लंबा शिवलिंग मिला है.

सर्वे पूरा होने पर डीएम कौशल राज शर्मा ने कहा कि सर्वे टीम के किसी भी सदस्य द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण की जानकारी लीक नहीं की गई है. एक सदस्‍य को पहले हटा दिया गया था. बाद में उन्‍हें सर्वे टीम का ह‍िस्‍सा बना दिया गया था.

सोमवार को दो घंटे 15 मिनट से अधिक समय तक सर्वे करने के बाद अदालत द्वारा गठित कोर्ट कमीशन ने सुबह करीब 10.15 बजे अपना काम समाप्त कर दिया था. सर्वे कार्य से सभी पक्ष संतुष्ट थे.

सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड की गई नोटिस के अनुसार, ज्ञानवापी मस्जिद के मामलों का प्रबंधन करने वाली समिति अंजुमन इंतेजामिया की याचिका पर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ कल यानी मंगलवार को मामले की सुनवाई करेगी.

वाराणसी की अदालत ने कोर्ट ने 17 मई तक सर्वे की कार्रवाई पूरी करके रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा था. अब मंगलवार को एक ओर जहां सर्वे को रोकने संबंधी याच‍िका पर सुनवाई की जाएगी. वहीं, वाराणसी कोर्ट में सर्वे की रिपोर्ट पर चर्चा की जाएगी.

Share
Now