January 20, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB JOIN US

Election 2022 : पूर्वांचल में आज मोदी-योगी देंगे सौगात तो पश्चिमी यूपी में अखिलेश-जयंत की हुंकार…..

पीएम मोदी आज पूर्वांचल के गोरखपुर को विकास की सौगात से नवाजेंगे. वहीं, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी पश्चिमी यूपी के मेरठ से चुनावी हुंकार भरेंगे.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का अभी भले ही औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है, लेकिन सियासी दलों ने अपने-अपने चुनावी अभियान तेज कर दिए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को पूर्वांचल के गोरखपुर को विकास की सौगात से नवाजेंगे. वहीं, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी पश्चिमी यूपी के मेरठ से चुनावी हुंकार भरेंगे. सपा-आरएलडी गठबंधन के बाद दोनों नेता एक साथ पहली बार चुनावी मंच पर नजर आएंगे.  

पूर्वांचल में मोदी-योगी सीएम योगी के गढ़ पूर्वांचल को विकास की सौगात देकर पीएम मोदी 2022 के चुनावी माहौल को बीजेपी के पक्ष में बनाने का काम करेंगे. मोदी गोरखपुर में खाद कारखाने से लेकर एम्स और आरएमआरसी की लैब का लोकार्पण करेंगे. बीजेपी के लिए पूर्वांचल का किला बचाने की चुनौती है, जिसका जिम्मा सीएम योगी से लेकर पीएम मोदी तक ने संभाल लिया है. मोदी डेढ़ महीने में चौथी बार पूर्वांचल के दौरे पर हैं. पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी पूर्वांचल में रैली कर चुके हैं. 

गोरखपुर में फर्टिलाइजर के नाम से मशहूर खाद कारखाना 20 अप्रैल, 1968 को शुरू हुआ था, लेकिन 1990 में बंद कर दिया गया था. पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद साल 2016 को खाद कारखाने का शिलांन्यास किया गया था, जो अब बनकर तैयार है. साथ ही पीएम मोदी गोरखपुर में बने एम्स और आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र की नौ बायोसेफ्टी लेवल (बीएसएल) टू प्लस लैब भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे. 

पश्चिमी यूपी में अखिलेश-जयंत किसान आंदोलन के चलते सभी की निगाहें 2022 के विधानसभा चुनाव में पश्चिमी यूपी पर है. बीजेपी पिछले चुनाव में विपक्ष का सफाया पश्चिमी यूपी में कर दिया था, लेकिन किसान आंदोलन के चलते माहौल काफी बदल गया है. सपा-आरएलडी ने हाथ मिला लिया है और अब मेरठ में मंगलवार को पहली बार जयंत चौधरी और अखिलेश यादव एक साथ चुनावी रैली कर अपने खोए हुए जनाधार को वापस लाने की कवायद करेंगे. 

अखिलेश-जयंत मेरठ रैली के जरिए बीजेपी को अपनी ताकत का एहसास भी कराना चाहते हैं, जिसके लिए सपा-आरएलडी ने पूरी ताकत झोंक दी है. हालांकि, पहले यह आरएलडी की ही रैली थी, लेकिन बाद में इसे गठबंधन की रैली में तब्दील कर दिया गया. यह पहला मौका होगा, जब दोनों नेता चुनाव से पहले एक साथ होंगे. इस दौरान 36 गांवों के अलग-अलग समाज के लोग चौधरी जयंत सिंह और अखिलेश यादव को मंच पर पगड़ी बांधेंगे, जिसके जरिए पश्चिमी यूपी को सियासी संदेश देने की रणनीति बनाई गई है. 

Share
Now