Tue. May 11th, 2021

Express News Live

ज़िद !! सच दिखने की

जगो री उत्तराखंड सरकार ,प्रशासन।

उत्तराखंड परिवहन निगम उत्तराखंड सरकार एवं निगम प्रबंधन के आदेश अनुसार लगातार अपनी सेवाएं दे रहा है इसमें परिवहन निगम के चालक एवं परिचालक व वर्कशॉप के कर्मचारी प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं उत्तराखंड परिवहन निगम के चालक परिचालक लंबे-लंबे मार्गों पर जैसे कि टनकपुर चंडीगढ़ टनकपुर अमृतसर टनकपुर लुधियाना टनकपुर लखनऊ टनकपुर गुड़गांव पिथौरागढ़ से देहरादून दिल्ली व कुमायूं रीजन के अल्मोड़ा से गुरुग्राम अल्मोड़ा से दिल्ली अल्मोड़ा से देहरादून अल्मोड़ा से लखनऊ रानीखेत डिपो से देहरादून दिल्ली लखनऊ भवाली से आगरा देहरादून दिल्ली इसी प्रकार हल्द्वानी से देहरादून दिल्ली गुरुग्राम फरीदाबाद चंडीगढ़ जालंधर काठगोदाम से लुधियाना चंडीगढ़ दिल्ली इसी प्रकार देहरादून रीजन से दिल्ली लखनऊ आगरा गुरुग्राम फरीदाबाद चंडीगढ़ लुधियाना जम्मू आदि मार्गों पर चालक परिचालकों द्वारा अपनी सेवाएं दी जा रही हैं परंतु निगम प्रबंधन द्वारा ना तो चालक परिचालक को अभी तक वैक्सीन लगवाई गई है 45 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों ने तो वैक्सीन लगवा ली है परंतु 45 साल से कम उम्र के कर्मचारियों को चाहे वह चालक परिचालक हों या कार्यशाला कार्मिक हो या ऑफिस के कर्मचारी हो किसी को भी वैक्सीन नहीं लगवाई गई है और ना ही कर्मचारियों को जो मार्ग पर चल रहे चालक परिचालक हैं उनको मास्क सैनिटाइजर फेस शिल्ड व अन्य कोई सुरक्षा उपकरण मुहैया कराया गया है नाही रास्ते में कहीं बसों को सैनिटाइज करने की कोई व्यवस्था है पिछली बार कोरोना काल में सभी बसों में एक पन्नी लगाकर चालक व परिचालक के लिए अलग केबिन की व्यवस्था की गई थी जोकि इस बार कोरोनावायरस संक्रमण की गति पिछली बार से बहुत अधिक है बहुत से कर्मचारी एवं अधिकारी भी कोरोनावायरस से संक्रमित हुए हैं फिर भी इस और कोई ध्यान नहीं दिया गया है कर्मचारी अपनी एवं अपने परिवार की सुरक्षा को दांव पर लगाकर ड्यूटी करने पर मजबूर हैं कर्मचारियों को पिछले 5 माह से वेतन भी नहीं दिया गया है इसी प्रकार जो कर्मचारी मार्ग पर ड्यूटी करने जा रहे हैं हाईवे रोड पर सभी ढाबे बंद होने के कारण कर्मचारी भूखे प्यासे ही अपनी ड्यूटी करने पर विवश है मार्ग पर तो कुछ खाने को नहीं मिल रहा है किंतु मंजिल पर पहुंचने के बाद भी खाने को कुछ भी उपलब्ध नहीं हो रहा है कृपया इस विषय को संज्ञान में लेना सुनिश्चित करें एवं कर्मचारी समस्याओं को प्रमुखता से उठाएं।

Share
Now