January 20, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB JOIN US

सांसदों के निलंबन पर धरने पर बैठा विपक्ष,राहुल गांधी ने मोदी सरकार को बताया तानाशाह, कहा हम झुकेंगे नहीं…..

मॉनसून सत्र में हंगामे को लेकर कांग्रेस, टीएमसी, शिवसेना और अन्य पार्टियों के 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र से निलंबित किया गया है. उधर, विपक्ष लगातार निलंबन को अवैध करार देते हुए वापसी की मांग कर रहा है. जबकि राज्यसभा अध्यक्ष और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने साफ कर दिया है कि बिना माफी के निलंबन वापस संभव नहीं है.

संसद के शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन भी 12 सांसदों के निलंबन को लेकर तकरार जारी रही. विपक्षी सांसदों ने साथी सांसदों के निलंबन की वापसी की मांग को लेकर संसद में गांधी प्रतिमा पर विरोध प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन में राहुल गांधी भी शामिल हुए. राहुल गांधी ने मोदी सरकार को तानाशाह बताते हुए कहा, हम झुकेंगे नहीं. 

दरअसल, मॉनसून सत्र में हंगामे को लेकर कांग्रेस, टीएमसी, शिवसेना और अन्य पार्टियों के 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र से निलंबित किया गया है. उधर, विपक्ष लगातार निलंबन को अवैध करार देते हुए वापसी की मांग कर रहा है. जबकि राज्यसभा अध्यक्ष और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने साफ कर दिया है कि बिना माफी के निलंबन वापस संभव नहीं है. 

राहुल ने कहा- झुकेंगे नहीं राहुल गांधी ने कहा, तानाशाही के खिलाफ, हम गांधीवादी खड़े हैं. और हम झुकेंगे नहीं! इससे पहले राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा था कि किस बात की माफी? संसद में जनता की बात उठाने की? बिलकुल नहीं!

माफी न मांगने पर अड़ा विपक्ष उधर, विपक्ष माफी न मांगने पर अड़ा है. राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, हम निलंबन वापसी की मांग करते हैं. हम आगे की रणनीति के लिए बैठक करेंगे. इससे पहले मंगलवार को खड़गे ने कहा था कि निलंबित सांसद माफी नहीं मांगेंगे. 

वेंकैया नायडू ने लगाई फटकार उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने बुधवार को एक बार फिर विपक्ष की फटकार लगाई. उन्होंने कहा, जिन्होंने प्ले कार्ड दिखाए, सदन में मंत्रियों के हाथ से पेपर खींचे. सदन में उनके आचरण को दुनिया ने देखा. इसके बावजूद इन लोगों को कोई पछतावा नहीं है. 

ये सांसद हुए निलंबित 11 अगस्त को बीमा बिल पर चर्चा के दौरान राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ था. संसद के अंदर खींचातानी भी होने लगी थी. आलम ये हो गया था कि मामले को शांत कराने के लिए मार्शलों को बुलाना पड़ गया था. अब शीतकालीन सत्र में एलामरम करीम (सीपीएम), छाया वर्मा (कांग्रेस), रिपुन बोरा (कांग्रेस), बिनय विश्वम (सीपीआई), राजामणि पटेल (कांग्रेस), डोला सेन (टीएमसी), शांता छेत्री (टीएमसी), सैयद नासिर हुसैन (कांग्रेस), प्रियंका चतुर्वेदी (शिवसेना), अनिल देसाई (शिवसेना), अखिलेश प्रसाद सिंह (कांग्रेस) को निलंबित कर दिया गया.   

Share
Now