January 17, 2022

Express News Bharat

ज़िद !! सच दिखने की

ENB

इंडिया इंटरनेशनल साराभाई स्टूडेंट साइंटिस्ट अवार्ड प्रोग्राम 2021 के तहत स्टूडेंट साइंटिस्ट के रूप में मेरिट कंसोलेशन अवार्ड…

मनीष कुमार त्रिपाठी, ग्रेटर नोएडा, उत्तर प्रदेश में स्कूल फॉर एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग (SAME) कॉलेज में कोर्स ऑफ एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग के छात्र hai , Jinko इंडिया इंटरनेशनल साराभाई स्टूडेंट साइंटिस्ट अवार्ड प्रोग्राम 2021 के तहत स्टूडेंट साइंटिस्ट के रूप में मेरिट कंसोलेशन अवार्ड से सम्मानित किया गया है।

यह अवार्ड डॉ विक्रम साराभाई के जन्मदिन पर 12 अगस्त 2021 को शुरू किए गए अवार्ड कार्यक्रम के माध्यम से भविष्य में वैज्ञानिक बनने के लिए प्रेरित करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक डॉ विक्रम ए साराभाई की जयंती पर प्रदान किया जाता है। यह अवार्ड कार्यक्रम पूरी तरह से साइंस मैथ एस्ट्रोनॉमी स्पेस साइंस ओरिएंटेड असाइनमेंट और ऑनलाइन क्विज इवेंट आधारित है, जिसका उद्घाटन 20 सितंबर 2021 को मून लैंडिंग डे पर डॉ. विपिन कुमार, नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन के निदेशक, जिनको इंस्पायर मनक अवार्ड के लिए जाना जाता है।

इस दूसरे इंडिया इंटरनेशनल साराभाई स्टूडेंट साइंटिस्ट अवार्ड 2021 के आयोजक DASA इंडिया हैं,नेशनल काउंसिल ऑफ स्टूडेंट साइंटिस्ट इंडिया की प्रेरणा से – जिसमे से एक विपनेट हैं, जिसका संबद्ध क्लब विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार से है.

अवार्ड समारोह इसरो के Dr. Bharatbhai Chaniara पूर्व वरिष्ठ Space Scientist ,Government of India और डॉ प्रभाकर शर्मा वरिष्ठ वैज्ञानिक इसरो jinke pass भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम और डॉ विक्रम ए साराभाई के साथ भी काम करनेका अनुभव प्राप्त है , की उपस्थिति में आयोजित किया गया,

यह अवार्ड पुरस्कार डॉ. जयंत जोशी से प्रेरित था जो कि
मिशन मंगलयान के पूर्व इसरो वैज्ञानिक और टीम सदस्य वैज्ञानिक रह चुके हैं, जो इसके उद्घाटन समारोह और अन्य शैक्षिक वेबिनार में भी मौजूद रहे l इस प्रतिष्ठित अवार्ड पुरस्कार का आयोजन त्रिपुरा राज्य के अंजन बानिक द्वारा किया गया है, जो आयोजन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष और फ्रंटलाइनर साइंस कम्युनिकेटर हैं, जो त्रिपुरा राज्य से संबंधित हैं। उन्होंने कार्यक्रम की मेजबानी भी की और भारत के विभिन्न स्थानों के सभी 21 स्टूडेंट साइंटिस्ट अवार्ड विजेताओं को बधाई दी।

अवार्ड पुरस्कार विजेता मनीष कुमार त्रिपाठी पुत्र शैलेन्द्र कुमार त्रिपाठी ,सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश से हैं। और वर्तमान में मनीष कुमार त्रिपाठी ग्रेटर नोएडा, उत्तर प्रदेश में स्कूल फॉर एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग (SAME) कॉलेज में एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग का कोर्स कर रहे हैं।
मनीष कुमार त्रिपाठी ने विजेता होने के नाते भारत और विदेश के सभी छात्रों को अगले साल 2022 में इस पुरस्कार कार्यक्रम के लिए विज्ञान गणित एस्ट्रो असाइनमेंट को पूरा करने के लिए आमंत्रित किया

नाम – मनीष कुमार त्रिपाठी पुत्र शैलेन्द्र कुमार त्रिपाठी।
मैं सुल्तानपुर, उत्तर प्रदेश से हूँ।
वर्तमान में मैं ग्रेटर नोएडा, उत्तर प्रदेश में स्कूल फॉर एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग (SAME) कॉलेज में एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियरिंग का अपना कोर्स कर रहा हूं।

इस कार्यक्रम के बारे में मेरा अनुभव अद्भुत रहा है , और मैं इस कार्यक्रम में भाग लेने से खुश हूं। और मुझे इसरो वैज्ञानिक द्वारा वेबिनार में मिशन मंगलयान, चंद्रयान जैसे विभिन्न मिशन उपलब्धि के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने का अवसर मिला . और नासा के वैज्ञानिक के साथ बातचीत करने का भी अवसर मिला जिनका नाम Er. जॉर्ज ए सालाजार है l जेएससी – नासा यूएसए। और साथ ही इसरो में एक वैज्ञानिक के रूप में काम करने का अलग-अलग वैज्ञानिकों ka अनुभव कैसा रहा ये भी जानने को मिला l और साथ ही साथ इसरो में वैज्ञानिक के रूप में कैरियर कैसे बनाया जाए इसके बारे में भी जानकारी मिली l और साथ ही साथ विभिन्न मिशन उपलब्धियों के बारे में भी जानकारी मिली l

मैं अन्य छात्रों को सलाह देता हूं कि 2022 में छात्र वैज्ञानिक अवार्ड पुरस्कार के लिए योग्यता प्राप्त करने के लिए इस कार्यक्रम में शामिल हों, वेबिनार और इस कार्यक्रम के विभिन्न चरणों में भाग लें।

Share
Now