Sat. Sep 25th, 2021

Express News Live

ज़िद !! सच दिखने की

जेएमएम नेता सह समाजसेवी शक्तिनाथ अमन ने कार्यपालक पदाधिकारी को सौंपा लिखित ज्ञापन….

बरहरवा नगर पंचायत के मुन्शी पोखर सरकारी तालाब की वर्षों से नहीं हुई साफ सफाई ।

जेएमएम नेता सह समाजसेवी शक्तिनाथ अमन ने कार्यपालक पदाधिकारी को सौंपा लिखित ज्ञापन

बरहरवा: नगर पंचायत क्षेत्र अंतर्गत वार्ड संख्या 3 में बरहरवा राजजमहल मुख्य मार्ग बस स्टैंड के सड़क किनारे सरकारी जलाशय काफी अर्थ से विस्थापित है जिस जलाशय में अवैध रूप से सरकारी जलाशय के जमीन को यहां पर निवास करने वाले कुछ तत्वों द्वारा बिना किसी अनुमति के घरेलू निर्माण किया गया है जो पूर्ण रूप से अवैध और गैर कानूनी है।

वहीं दूसरी ओर वार्ड संख्या 3 में मौजूद काफी बड़े पोखर पर साफ सफाई और देखरेख के अभाव के कारण इस पोखर काजल पूरी तरह से दूषित हो चुका है अनुमान लगाया जाए तो पोखर में लगभग 8 महीने से किसी भी बरहरवा नगर पंचायत के सफाई कर्मी द्वारा कोई भी काम नहीं किया गया है बलवा नगर पंचायत की रूपरेखा लगभग 4 वर्ष पूर्व नगर वासियों द्वारा ग्राम पंचायत से नगर पंचायत में तब्दीली होने के बाद विकास की उम्मीद जगी थी परंतु नगर पंचायत चुनाव के उपरांत 4 वर्ष बीत जाने के बाद भी नगर की रूपरेखा में विकास नहीं बल्कि राजनीतिक दांवपेच के दबाव में यहां किस सुख सुविधा और मूलभूत सुविधाओं से वंचित कर विनाश की रूपरेखा विस्थापित की गई है जिसको लेकर स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा नगर वासियों से हर संभव स्वच्छता साफ सफाई एवं कोविड-19 प्रोटोकॉल का तहत सहयोग करने की खोखली दलील और आश्वाशन दिए गए परन्तु किसी सूरत नगर को विकास के रास्ते पर नहीं आंका गया है जो लोगों के मन एक दुविधा भरी विड़म्बना से जूझना पड़ रहा हूं।

बरहरवा नगर पंचायत द्वारा स्वच्छता और देख रेख में गैरजिम्मेदाराना कार्यशैली समझ के परे:-शक्तिनाथ अमन

  • बरहरवा नगर पंचायत क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता एवं जेएमएम के केंद्रीय सदस्य शक्तिनाथ अमन ने इस रवैये पर संज्ञान लेते हुए बरहरवा नगर पंचायत कार्यपालक पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी देवराज गुप्ता को लिखित ज्ञापन सौंपते हुए बरहरवा नगर पंचायत अन्तर्गत वार्ड संख्या -03 में स्थित बरहरवा राजमहल मुख्य मार्ग बस स्टैंड के समीप सड़क किनारे मुंशी पोखर में भारी मात्रा में दूषित सामग्रियां और जंगली पौधों का फैलाव होने से स्थानीय लोग असुरक्षित और भयभीत पूर्ण कर रहे हैं अर्थात इस गंदगी की भरमार और दूषित होने की वजह से विभिन्न प्रकार की बीमारियों के शिकार बच्चे बूढ़े और युवा हो रहे है। वहीं दूसरी ओर इस तालाब को स्थानीय लोग छठ पर्व एवं अन्य जल संबंधी त्यौहारसे हर वर्ष मनाते है जिस वजह से लोगों की भावनाएं इस तालाब से वर्षों से जुड़ी हुई है और गंदगी के कारण लोगों का जीना दुश्वार हो चुका है फलत बरहरवा नगर पंचायत सफाई कर्मियों द्वारा सफाई के दृष्टिकोण से किलबर्न खानापूर्ति की जाती है जो इस नगर के भ्रष्टाचार नीतियों पर सटीक बैठती है और केंद्र सरकार द्वारा संकल्पित योजना स्वच्छ भारत मिशन के सपनों को अपने भ्रष्टाचारी कार्यशैली से चकनाचूर करते जा रहे हैं जो एक नगर पंचायत कार्यालयकर्मियों अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा कर्तव्यहीनता का साफ-सुथरे लहजे में दोहरे नीति का परिचायक साबित करता है। इसी संबंध में सामाजिक दृष्टिकोण से झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय सदस्य सह समाजसेवी सतीनाथ अमन ने मंगलवार को पत्रांक 108 पर समस्या की जानकारी देते हुए बरहरवा नगर पंचायत कार्यपालक पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपा है साथ समस्या के मद्देनजर त्वरित कार्रवाई करते हुए अभिलंब तालाब की साफ सफाई कराते हुए लोगों को असामान्य दूषित प्रभावों से बचाने की अपील की गई है।

क्या कहते है सम्बंधित वार्ड पार्षद :
नगर पंचायत अंतर्गत वार्ड संख्या तीन के वार्ड पार्षद सबीना बीवी ने प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि मुंशीपोखर के तालाब में लंबे अरसे से पढ़े दूषित सामग्री एवं जंगल की सफाई को लेकर लिखित रूप से बरहरवा नगर पंचायत कार्यपालक पदाधिकारी को सौंपी थी परंतु जानकारी देने के तीन माह बीत जाने के बाद इस मामले में नगर पंचायत सफाई कर्मी एवं कर्मचारी द्वारा एक बार भी साफ सफाई नही की गई और न ही कार्यालय द्वारा इस संबंध में चर्चा हुई है।जो दुर्भाग्यपूर्ण नीतियों का उदाहरण है ।

Share
Now