February 8, 2023

Express News Bharat

Express News Bharat 24×7 National Hindi News Channel.

Express News Bharat

उत्तराखंड : पं. दीनदयाल उपाध्याय पार्क बना नशेड़ियों का अड्डा,बांधे जा रहे जानवर!!

उधम सिंह नगर :जनपद के तहसील बाजपुर में बीजेपी के आदर्श पंडित दीनदयाल पार्क के हालात बद से बत्तर हैं।जिनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। पार्क अपनी बदहाली पर आँसू बहा रहे हैं। राज्य और केंद्र में बीजेपी की सरकार होने के बाबजूद इन पार्को की हालत बहुत खराब है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क अब नशेड़ियो का अड्डा बन चुका है।

पार्क बना नशेड़ियों का अड्डा, सालों से नहीं हुई सफाई

जनपद उधम सिंह नगर में वैसे तो कोई पार्क हैं और पार्को के लिए सरकार से अच्छा बजट पास किया जाता है. बाबजूद इसके पार्को को हालात इस तरह की है कि देख कर आपको सोचने पर विवश होना पड़ेगा। क्षेत्र में तरह-तरह के बढ़ते नशे को लेकर नशेड़ियों ने नगर में स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क को भी नशे का अड्डा बना रखा है। पार्क की दुर्दशा हो रखी है। स्थानीय नगर पंचायत अधिकारियों द्वारा सालों से पार्क की सफाई नहीं हुई और ना ही कोई देखरेख हो पा रही है।

 गंदगी से भरा पड़ा पार्क, लोग बांध रहे पार्क में जानवर

आपको बता दें कि नगर के रामपुर मोड़ स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क 25 दिसम्वर 2010 को नगर पंचायत अध्यक्ष रूपवती के कार्यकाल में संसदीय सचिव व क्षेत्रीय विधायक अरविंद पांडये ने लोकर्पण किया था। नगर में एक ही पार्क होने के कारण सुबह शाम बुजुर्ग लोग इस पार्क में घूमने के लिए आते थे और व्यायाम भी करते थे। लेकिन नगर पंचायत सफाई कर्मियों द्वारा समय-समय पर पार्क की सफाई नहीं हो पाई जिसकी वजह से आज गंदगी से पटा हुआ है। पार्क में लोगों का आगमन नही होने से नशेड़ीओ ने पार्क को अपना अड्डा बना लिया है. और कुछ लोगों ने जानवरों का तवेला बना रखा है जिससे पार्क में अपने जानवर बांध रहे हैं।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने करवाया था निर्माण

बाजपुर में वर्षो से पंडित दीनदयाल उपाध्यय पार्क बदहाली के आँसू बहाने पर मजबूर है। इस पार्क का निर्माण 1997 में सूबे के मौजूदा शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय उस वक्त नगर पालिका अध्यक्ष थे उनके कार्यकाल में इस पार्क के लिए लगभग 4 लाख की लागत से बनना तय हुआ था लेकिन ये पार्क जब से आज तक अधूरा है। इस पार्क को एक कूड़े दान में तब्दील कर दिया। इसी पार्क के लिए वर्ष 2018 में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने 2 लाख 50 हजार रुपये की लागत से फिर से इस पार्क की दशा सुधानने की कोशिश की लेकिन फिर भी इसकी दशा ज्यों की त्यों ही रही। आज इस पार्क में इंसान नही बल्कि जानवर सुअर घूमते हैं।

इनके अनुसार अभी मीडिया ने ही संज्ञान दिलाया है इन्हें कुछ नही पता ओर साथ मे पार्क बनाने की ओर बात कर रहें है इनसे बने पार्को की हालत सुधारी नही जा रही

Share
Now